बार बार वही घाव……

बार बार वही घाव,

कभी शब्दों से किया आघात,

लबों को सी कर किये कभी वार…..