Gallery

चल मेरे घोड़े…..

चले मेरा घोडा,
टिक, टिक,टिक,
चलना उसका काम,
मैं भी खेलूँ,
करना नहीं है आराम !
दौड़े मेरा घोडा,
करूँ ऐसी सवारी,
और करूँ हवा से बातें,
है मेरी तैयारी !
लक्ष्मी बाई की सुनी कहानी,
नहीं था उसका कोई सानी,
न होगी डर की बानी,
अब मैंने भी है ठानी !
तो, दौड़ मेरे घोड़े,
टिक टॉक टिक,
मत जाना तू,
रुक, रुक, रुक !!
पार करले राह के रोड़े,
दौड़, दौड़ बस दौड़
मेरे घोड़े !!!